Dosti Shayari - दोस्ती शायरी

Page 1                                                                                                                                       Page 3



Page 1                                                                                                                                       Page 3




===> यह दोस्ती मेरी नहीं हमारी है <===

यह दोस्ती मेरी नहीं हमारी है,

इसलिए तो सब रिश्तो से प्यारी है

मुमकिन नहीं दोस्तों का रोज़ मिलना,

तभी तो SMS का सिलसिला जारी है


===> किस हद तक जाना है ये कौन जानता है, <===

किस हद तक जाना है ये कौन जानता है,

किस मंजिल को पाना है ये कौन जानता है,

दोस्ती के दो पल जी भर के जी लो,

किस रोज़ बिछड जाना है ये कौन जानता है


===> प्यार करने वालो <===

प्यार करने वालो की किस्मत ख़राब होती हैं !

हर वक़्त इन्तहा की घड़ी साथ होती हैं !!


वक़्त मिले तो रिश्तो की किताब खोल के देखना !

दोस्ती हर रिश्तो से लाजवाब होती हैं !!


===> दोस्ती तो सिर्फ एक इत्तफाक हैं <===

दोस्ती तो सिर्फ एक इत्तफाक हैं !

यह तो दिलो की मुलाक़ात हैं !!

दोस्ती नहीं देखती यह दिन हैं की रात हैं !

इसमें तो सिर्फ वफादारी और जज्बात हैं !!


===> हम वो नहीं जो दिल तोड़ देंगे <===

हम वो नहीं जो दिल तोड़ देंगे,

थाम कर हाथ साथ छोड़ देंगे,

हम दोस्ती करते हैं पानी और मछली की तरह,

जुदा करना चाहे कोई तो हम दम तोड़ देंगे


=============================================================



=============================================================


===> दोस्ती हर चहरे की मीठी मुस्कान होती है <===

दोस्ती हर चहरे की मीठी मुस्कान होती है,

दोस्ती ही सुख दुख की पहचान होती है,

रूठ भी गऐ हम तो दिल पर मत लेना,

क्योकी दोस्ती जरा सी नादान होती है.. .


===> ऐ दोस्त तेरी दोस्ती पर नाज़ हैं <===

ऐ दोस्त तेरी दोस्ती पर नाज़ हैं,

हर वक्त मिलने की फरीयाद करते हैं,

हमें नहीं पता घर वाले बताते हैं,

हम निंद में भी आपसे बात करते हैं


===> दिल से दिल <===

दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!


===> दोस्त दोस्त से खफा नहीं होता <===

दोस्त दोस्त से खफा नहीं होता,

प्यार प्यार से जुदा नहीं होता,

भुला देना मेरी कुछ कमियों को,

क्यूंकि इंसान कभी खुदा नहीं होता |


===> जीने की नयी अदा दी है <===

जीने की नयी अदा दी है,

खुश रहने की उसने दुआ दी है,

ऐ खुदा मेरे दोस्तों को सालामत रखना,

जिसने अपने दिल में मुझे जगह दी है


=============================================================


Page 1                                                                                                                                       Page 3


0 comments:

Post a Comment

 
Top