Shayari, बेस्ट Shayari, याद शायरी, हिंदी शायरी,  प्यार शायरी,  इंतज़ार शायरी, दर्द शायरी,  बेबफा शायरी

Page 2                     Page 1


Page 2                     Page 1


===> अपने लफ़्ज़ों से चुकाया है <===

अपने लफ़्ज़ों से चुकाया है किराया इसका,
दिलों के दरमियां यूँ मुफ्त में नहीं रहती,
साल दर साल मै ही उम्र न देता इसको,
तो ज़माने में मोहब्बत जवां नहीं रहती…


===> ज़िन्दगी हसीन है <===

ज़िन्दगी हसीन है , ज़िन्दगी से प्यार करो …..
हो रात तो सुबह का इंतज़ार करो …..
वो पल भी आएगा, जिस पल का इंतज़ार हैं आपको….
बस रब पर भरोसा और वक़्त पे ऐतबार करो ….


===> किसी के दिल में बसना <===

किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नही;
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नही;
गुनाह हो यह ज़माने की नजर में तो क्या;
यह ज़माने वाले कोई खुदा तो नही!


===> सदियों से जागी आँखों को <===

सदियों से जागी आँखों को एक बार सुलाने आ जाओ;
माना कि तुमको प्यार नहीं, नफ़रत ही जताने आ जाओ;
जिस मोड़ पे हमको छोड़ गए हम बैठे अब तक सोच रहे;
क्या भूल हुई क्यों जुदा हुए, बस यह समझाने आ जाओ।


===> मत ज़िकर कीजिये मेरी <===

मत ज़िकर कीजिये मेरी अदा के बारे में;
मैं बहुत कुछ जानता हूँ वफ़ा के बारे में;
सुना है वो भी मोहब्बत का शोक़ रखते हैं;
जो जानते ही नहीं वफ़ा के बारे में।


===> कोई शायर तो कोई फकीर बन जाये <===

कोई शायर तो कोई फकीर बन जाये;
आपको जो देखे वो खुद तस्वीर बन जाये;
ना फूलों की ज़रूरत ना कलियों की;
जहाँ आप पैर रख दो वहीं कश्मीर बन जाये।


===> दर्द हैं दिल मैं पर इसका <===

दर्द हैं दिल मैं पर इसका ऐहसास नहीं होता …
रोता हैं दिल जब वो पास नहीं होता…..
बरबाद हो गए हम उनकी मोहब्बत मैं ….
और वो कहते हैं कि इस तरह प्यार नहीं होता ……


===> जब भी तेरे बिना रात होती हैं ….. <===

जब भी तेरे बिना रात होती हैं …..
दीवारों से अक्सर बात होती हैं ………
सन्नटा पूछता हैं हमारा हाल हम से ……
और बस तेरे नाम से ही शुरुआत होती हैं …..


===> कोई रूठा हुआ शक्स आज बहुत याद आया <===

कोई रूठा हुआ शक्स आज बहुत याद आया
एक गुजरा हुआ वक़्त आज बहुत याद आया
छुपा लेता था जो मेरे दर्द को अपने सीने मैं
आज फिर दर्द हुआ तो बहुत याद आया


===> मर जाऊं मैं अगर तो आंसू मत बहाना <===

मर जाऊं मैं अगर तो आंसू मत बहाना…………
बस कफ़न की जगह अपना दुपट्टा चढ़ा देना …..
कोई पूछे की रोग क्या था …………?
तो सर झुका कर मोहब्बत बता देना …………


===> जिंदगी भर दर्द से जीते रहे .. <===

जिंदगी भर दर्द से जीते रहे ..
दरिया पास था आंसुओं को पीते रहे..
कई बार सोंचा कह दू हाल-ए-दिल उससे..
पर न जाने क्यूँ हम होंठो को सीते रहे..


===> ज़िन्दगी से बस यही गिला हैं <===

ज़िन्दगी से बस यही गिला हैं
ख़ुशी के बाद क्यूँ गम मिला हैं …
हमने तो उनसे वफ़ा की थी …
पर नहीं जानते थे कि ……….
वफ़ा के बेवफाई ही सिला हैं ……


===> अपनी बेबसी पर आज रोना सा आया ! <===

अपनी बेबसी पर आज रोना सा आया !
दूसरों को नहीं मैंने आपको को आज़माया !!
हर दोस्त की तन्हाई दूर की मैंने !
मगर खुद को हर मोड़ पैर तनहा ही पाया !!!

Page 2                     Page 1



0 comments:

Post a Comment

 
Top